International News Network

Breaking News
| | | | | | | |

MAYAWATI GAVE A BIG JOLT TO BABA - Modi and Shah left Yogi alone

MAYAWATI GAVE A BIG JOLT TO BABA - Modi and Shah left Yogi alone

March 03, 2022 10:57 AM
MAYAWATI GAVE A BIG JOLT TO BABA - Modi and Shah left Yogi alone

मायावती ने बाबा को दिया बड़ा झटका 

  मोदी और शाह ने योगी को मंझदार में अकेला छोड़ा

मोहम्मद तारिक सलीम

आज छठे चरण का मतदान है। यह चरण काफी महत्तवपूर्ण माना जा रहा है, क्योंकि उत्तर प्रदेश के मुख्यंमत्री योगी आदित्यनाथ की प्रतिष्ठा दांव पर लगी है। वह गोरखपुर सदर से उम्मीदवार हैं। 2017 में  गोरखपुर की 9 विधानसभा सीटों में से 8 सीटें भाजपा को मिली थी। इस बार भाजपा हाईकमान ने योगी आदित्यनाथ को सख्त हिदायत दिया है कि गोरखपुर की 9 में से 9 सीटें उन्हें जीतनी है। मालूम हो कि भाजपा के सीक्रेट सर्वे की रिपोर्ट के मुताबित हालात इतने खराब हैं कि भाजपा को उत्तर प्रदेश में अपनी जमीन सरकती साफ नजर आ रही है। एैसे में योगी आदित्यनाथ को इतनी बड़ी जिम्मेदारी देना उनके लिए बड़ी चुनौती है।

हाईकमान के इस टारगेट से योगी आदित्यनाथ काफी टेंशन में हैं। बीते पांच सालो में जिस तरह की ठाकुरवादी राजनीति योगी आदित्यनाथ ने फैलाया है, उससे उनको 10 मार्च को बड़ा झटका लग सकता है। बताते चलें की गोरखपुर में टिकट वितरण को लेकर योगी आदित्यनाथ ने जिसकी-जिसकी सिफारिश किया था उन सबको टिकट दिया गया, मगर हालात को देखते हुए अब योगी आदित्यनाथ को हिसाब देना भारी पड़ जाएगा।

गोरखपुर में इस बात को लेकर भी काफी चर्चा है कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी और गृह मंत्री अमित शाह ने योगी आदित्यनाथ को मझदार में अकेला छोड़ दिया है। 28 फरवरी को अमित शाह और योगी आदित्यनाथ का गोरखपुर में मेगा रोड शो होना था। इसको लेकर कई दिन पहले से तैयारियां की गयी, समाचार पत्रों में खबरें छपी, पोस्टर लगाए गये, पर अमित शाह गोरखपुर नहीं गए। इसके बाद 27 और 28 फरवरी को नरेन्द्र्र मोदी गोरखपुर एअरपोर्ट पर उतर कर वहां से हेलिकाप्टर से आसपास में जनसभाएं किया और फिर गोरखपुर एयरपार्ट से  दिल्ली वापस लौटेे गए। इस दौरान एक बार भी योगी आदित्यनाथ नरेन्द्र मोदी से मिलने एयरपोर्ट पर नहीं गये।

राजनीतिक गलियारों में यह भी चर्चा है कि आखरी वक्त में मायावती का गोरखपुर में बड़ी रैली करना इस बात का साफ संकेत है, कि जो दलित फ्री राशन वगैरह की वजह से भाजपा के झांसे में आ गया था, उसमें भी मायावती ने सेंघ लगा दिया है। एैसा समझा जा रहा है कि एक गहरे षड़यंत्र्र के तहत नरेन्द्र मोदी और अमित शाह ने योगी आदित्यनाथ को चारों तरफ से घेर लिया है और अब उनके पास बचाव का कोई रास्ता नहीं है।

जिस तरह से योगी आदित्यनाथ ने मुख्यमंत्री पद की शपथ लेने के 24 घंटे के अन्दर ही हरी शंकर तिवारी के बेटे विजय शंकर तिवारी के यहां छापा डलवाया उससे ब्राहणों और ठाकुरों में दरार और गहरा गयी और धीरे धीरे यह दरार एक खाई में तबदील हो गयी है। यहां ठाकुरों और ब्राहणों के बीच कई दशक से छत्तिस का आकड़ा रहा है।

गोरखपुर ही नहीं पूर्वांचल के कई क्षेत्रों में विनय शंकर तिवारी का खासा बर्चस्व हैै, जिसकी वजह से योगी आदित्यनाथ को भारी नुकसान का सामना करना पड़ सकता है। संजय निषाद जो मोदी, अमित शाह और योगी के काफी नजदीकी माने जाते हैं, उनकी भी आजकल योगी से काफी तनातनी है। इसके अलावा समाजवादी पार्टी की प्रत्याशी नेता एवं अभिनेत्री काजल निषाद का भी यहां काफी दबदबा है।

गोरखपुर में दलितों की कुल आबादी 1,15,000, ब्राहाण 80,000, यादव 40,000, मुस्लिम 30,000, निषाद 25,000, मौर्य 20,000, वैश्य 25,000, क्षत्रिय 20,000, ठाकुर और सैंथवार 45,000 और भूमिहार 20,000 हैं।  इन आबादी के आकड़ो से साफ अंदाजा लगाया जा सकता है कि योगी आदित्यनाथ कहां तक अपने मकसद में कामयाब होगें।

arabiantimes

Title issued by: Government Of India, Registrar of Newspaper for India-UPENG/2013/54180

2018 Arabian Times. All Rights Reserved. Designed & Developed By Teqza Infotech

loading...